स्त्री वशीकरण उपाय

स्त्री वशीकरण उपाय

स्त्री वशीकरण उपाय

स्त्री वशीकरण उपाय एक ऐसे ज्योतिषी उपाय है जो किसी भी स्त्री को वशीभूत कर सकते है। ये उपाय करके आप किसी भी मनचाही स्त्री को अपने वश में कर सकते है। इनमे प्रयुक्त होने वाले मंत्रो को स्त्री वशीकरण मंत्रो के नाम से जाना जाता है।
स्त्री वशीकरण उपायों को हम दो भागो में विभक्त कर सकते है। एक तो विवाहित स्त्री को वशीभूत करने के लिए विवाहित स्त्री वशीकरण उपाय तथा दूसरा कुंवारी लड़की को वशीभूत करने के लिए अविवाहित स्त्री वशीकरण उपाय कहलाते है।
विवाहित स्त्री वशीकरण उपायों से किसी भी विवाहित स्त्री का वशीकरण आसानी से किया जा सकता है जैसे कि पत्नी वशीकरण , भाभी वशीकरण , पड़ोस की विवाहित स्त्री का वशीकरण और अथवा किसी भी स्त्री का वशीकरण जिसका विवाह हो चूका हो। इसी प्रकार कुंवारी लड़कियों का वशीकरण उपाय से आप किसी भी कुंवारी लड़की का वशीकरण कर सकते है जैसे की अपनी प्रेमिका का वशीकरण जो की अभी तक अविवाहित है।

प्रेम विवाह में सफल होने के लिए वशीकरण

शुक्ल पक्ष के गुरूवार से शुरू करके विष्णु और लक्ष्मी मां की मूर्ती या फोटो के आगे “ऊं लक्ष्मी नारायणाय नमः” मंत्र का रोज़ तीन माला जाप स्फटिक माला पर करें ! इसे शुक्ल पक्ष के गुरूवार से ही शुरू करें ! तीन महीने तक हर गुरूवार को मंदिर में प्रशाद चढांए और विवाह की सफलता के लिए प्रार्थना करें !

पति-पत्नी के रिश्तों में प्रेम के लिए करें यह उपाय

• ज्योतिषशास्त्र में कुण्डली के सातवें घर को विवाह एवं वैवाहिक सुख का स्थान माना गया है। जिनकी कुण्डली में इस घर में राहु होता है उनके वैवाहिक जीवन में कठिनाई आने की संभावना रहती है।

• ऐसे व्यक्तियों को 40 दिनों तक बादाम या नारियल बहते पानी में प्रवाहित करना चाहिए। इससे पति-पत्नी के रिश्तों में प्रेम और तालमेल बना रहता है।

• जिन स्त्रियों के पति किसी अन्य स्त्री के मोहजाल में फंस गये हों या आपस में प्रेम नहीं रखते हों, लड़ाई-झगड़ा करते हों तो इस टोटके द्वारा पति को अनुकूल बनाया जा सकता है।

• गुरुवार अथवा शुक्रवार की रात्रि में या पीरियड के समय में रात्रि १२ बजे पति की चोटी (शिखा) के कुछ बाल काट लें और उसे किसी ऐसे स्थान पर रख दें जहां आपके पति की नजर न पड़े। ऐसा करने से आपके पति की बुद्धि का सुधार होगा और वह आपकी बात मानने लगेंगे। कुछ दिन बाद इन बालों को जलाकर अपने पैरों से कुचलकर बाहर फेंक दें। मासिक धर्म के समय करने से अधिक कारगर सिद्ध होगा।

• होली जलते समय तीन अभिमंत्रित गोमती चक्र लेकर उस महिला का नाम लेकर थोडा सिन्दूर लगाकर होली की अग्नि में फैंक दें।पति का उस महिला से पीछा छूट जायेगा।

• जब आपको लगे की आपके पति किसी महिला के पास से आरहें हैं तो आप किसी भी बहाने से अपने पति का आंतरिक वस्त्र लेकर उसमे आग लगा दें और राख को किसी चौराहे पर फैंक कर पैरों से रगड़ कर वापिस आजाएं।

• शुक्ल पक्ष के रविवार को ५ लौंग शरीर में ऐसे स्थान पर रखें जहां पसीना आता हो व इसे सुखाकर चूर्ण बनाकर दूध, चाय में डालकर जिस किसी को पिला दी जाए तो वह वश में हो जाता है।

• सवा पाव मेहंदी के तीन पैकेट (लगभग सौ ग्राम प्रति पैकेट) बनाएं और तीनों पैकेट लेकर काली मंदिर या शस्त्र धारण किए हुए किसी देवी की मूर्ति वाले मंदिर में जाएं। वहां दक्षिणा, पत्र, पुष्प, फल, मिठाई, सिंदूर तथा वस्त्र के साथ मेहंदी के उक्त तीनों पैकेट चढ़ा दें। फिर भगवती से कष्ट निवारण की प्रार्थना करें और एक फल तथा मेहंदी के दो पैकेट वापस लेकर कुछ धन के साथ किसी भिखारिन या अपने घर के आसपास सफाई करने वाली को दें। फिर उससे मेहंदी का एक पैकेट वापस ले लें और उसे घोलकर पीड़ित महिला के हाथों एवं पैरों में लगा दें। पीड़िता की पीड़ा मेहंदी के रंग उतरने के साथ-साथ धीरे-धीरे समाप्त हो जाएगी।

• यदि चाहते हुए वैवाहिक सुख नहीं मिल पा रहा है, हमेशा पति-पत्नि में किसी बात को लेकर अनबन रहती हो तो किसी भी शुक्रवार के दिन यह उपाय करें। मिट्टी का पात्र ले जिसमें सवा किलो मशरूम आ जाएं। मशरूम डालकर अपने सामने रख दें। पति-पत्नि दोनों ही महामृत्युंजय मंत्र की तीन माला जाप करें। तत्पश्चात इस पात्र को मां भगवती के श्री चरणों में चुपचाप रखकर आ जाए। ऐसा करने से मां भगवती की कृपा से आपका दांपत्य जीवन सदा सुखी रहेगा।

• यह प्रयोग शुक्ल में पक्ष करना चाहिए ! एक पान का पत्ता लें ! उस पर चंदन और केसर का पाऊडर मिला कर रखें ! फिर दुर्गा माता जी की फोटो के सामने बैठ कर दुर्गा स्तुति में से चँडी स्त्रोत का पाठ 43 दिन तक करें ! पाठ करने के बाद चंदन और केसर जो पान के पत्ते पर रखा था, का तिलक अपने माथे पर लगायें ! और फिर तिलक लगा कर पति के सामने जांय ! यदि पति वहां पर न हों तो उनकी फोटो के सामने जांय ! पान का पता रोज़ नया लें जो कि साबुत हो कहीं से कटा फटा न हो ! रोज़ प्रयोग किए गए पान के पत्ते को अलग किसी स्थान पर रखें ! 43 दिन के बाद उन पान के पत्तों को जल प्रवाह कर दें ! शीघ्र समस्या का समाधान होगा !

स्त्री वशीकरण टोटके

• अमावस्या की रात्रि को मिट्टी की एक कच्ची हंडिया मंगाकर उसके भीतर सूजी का हलवा रख दें। इसके अलावा उसमें साबुत हल्दी का एक टुकड़ा, ७ लौंग तथा ७ काली मिर्च रखकर हंडिया पर लाल कपड़ा बांध दें। फिर घर से कहीं दूर सुनसान स्थान पर वह हंडिया धरती में गाड़ दें और वापस आकर अपने हाथ-पैर धो लें। ऐसा करने से प्रबल वशीकरण होता है।

• प्रातः काल काली हल्दी का तिलक लगाएं। तिलक के मध्य में अपनी कनिष्ठिका उंगली का रक्त लगाने से प्रबल वशीकरण होता है।

• कौए और उल्लू की विष्ठा को एक साथ मिलाकर गुलाब जल में घोटें तथा उसका तिलक माथे पर लगाएं। अब जिस स्त्री के सम्मुख जाएगा, वह सम्मोहित होकर जान तक न्योछावर करने को उतावली हो जाएगी।

 

स्त्री वशीकरण उपाय – पहला उपायः पति-पत्नी वशीकरण मंत्र

पति-पत्नी के बीच वैमनस्यता को दूर करने हेतु वशीकरण

रात को सोते समय पत्नी पति के तकिये में सिंदूर की एक पुड़िया और पति पत्नी के तकिये में कपूर की २ टिकियां रख दें। प्रातः होते ही सिंदूर की पुड़िया घर से बाहर फेंक दें तथा कपूर को निकाल कर उस कमरे जला दें।

स्त्री वशीकरण उपाय -दूसरा उपाय

पारिवारिक सुख की प्राप्ति हेतु यदि पति-पत्नी के संबंधों में कटुता आ जाए, तो पति या पत्नी, या संभव हो, तो दोनों, ऊपर वर्णित मंत्र का पांच माला जप इक्कीस दिन तक प्रतिदिन करें। जप निष्ठापूर्वक करें, तनाव दूर होगा और वैवाहिक जीवन में माधुर्य बढ़ेगा।
पांच तरह की होती हैं लड़कियां, ऐसे मानेंगी आपकी हर बात

स्त्री वशीकरण उपाय – तीसरा उपायः मांगलिक दोष को ऐसे हटाएं

मंगल दोष के कारण वैवाहिक जीवन में कलह या तनाव होने की स्थिति में निम्नोक्त क्रिया करें। पति या पत्नी, या फिर दोनों, मंगलवार का व्रत करें और हनुमान जी को लाल बूंदी, सिंदूर व चोला चढ़ाएं। तंदूर की मीठी रोटी दान करें। मंगलवार को सात बार एक-एक मुट्ठी रेवड़ियां नदी में प्रवाहित करें। गरीबों को मीठा भोजन दान करें। मंगल व केतु के दुष्प्रभाव से मुक्ति हेतु रक्त दान करें। चांदी का जोड़ विहीन छल्ला धारण करें। इससे कुंडलियों का मांगलिक दोष दूर होकर पति-पत्नी के बीच आपसी प्रेम बढ़ेगा।

स्त्री वशीकरण उपाय – चौथा उपाय

जिन स्त्रियों के पति किसी अन्य स्त्री के मोहजाल में फंस गए हों या आपस में प्रेम नहीं रखते हं, लड़ाई-झगड़ा करते हों तो इस टोटके द्वारा पति को अनुकूल बनाया जा सकता है। गुरुवार अथवा शुक्रवार की रात्रि में 12 बजे पति की चोटी (शिखा) के कुछ बाल काट लें और उसे किसी ऐसे स्थान पर रख दें जहां आपके पति की नजर न पड़े। ऐसा करने से आपके पति का ध्यान पूरी तरह से उस स्त्री से हट जाएगा और वह आपसे पुनः प्रेम करने लगेंगे। कुछ दिन बाद इस बालों को जलाकर अपने पैरों से कुचलकर घर के बाहर फेंक दें।

स्त्री वशीकरण उपाय – पांचवा उपाय

शुभ मुहूर्त में मंत्र “ऊँ नमो महायक्षिण्ये मम पतिं में वश्यं कुरु कुरु स्वाहा” की 10 माला जप करने तथा दशांश हवन, तर्पण, मार्जन करने से यह मंत्र सिद्ध हो जाता है। इसके बाद किसी भी मिठाई को इस मंत्र से सात बार अभिमंत्रित कर अपने पति को खिला दें। ऐसा लगातार 21 दिन तक करें। इससे पति आपके वश में हो जाएंगे तथा वह अपने जीवन में कभी किसी अन्य स्त्री की तरफ नजर उठाकर भी नहीं देखेंगे।

स्त्री वशीकरण उपाय – छठां उपाय

हे गौरी शंकरार्धांगिं! यथा त्वं शंकरप्रिया तथा मां कुरु कल्याणि कांत कांता सुदुर्लभाम्।
इस मंत्र का प्रतिदिन पांच माला जप लगातार 21 दिन तक करने से पति का प्रेम प्राप्त होता है। जप से पूर्व भगवान गणेश एवं मां दुर्गा की पूजा अवश्य करें।

स्त्री वशीकरण उपाय – सातवां उपाय

अगर किसी स्त्री के पति अन्य से प्रेम करते हैं तथा अपनी पत्नी से लड़ाई-झगड़ा आदि दुर्व्यवहार करते हैं तो ऐसी महिलाओं को प्रत्येक रविवार को अपने घर तथा बेडरूम में गूगल की धूनी देनी चाहिए। धूनी देने के पहले मन ही मन दूसरी स्त्री का नाम लेकर प्रार्थना करनी चाहिए कि आपके पति उसके प्रभाव से मुक्त हो जाएं। जल्दी ही उन दोनों का आपसी संबंध टूट जाएगा।

स्त्री वशीकरण उपाय – आठवां उपायः वास्तु टिप्स

डॉल्फिन मछलियां अपने जीवनसाथी को भेंट में देने से वैवाहिक जीवन में मधुरता एवं सद्भाव की वृद्धि होती है। डॉल्फिन मछलियों का चित्र या मूर्ति शयन कक्ष में पूर्व या पश्चिम दिशा में रखनी चाहिए। फेंग शुई के अनुसार मेंडेरियन बत्तख का जोड़ा नवविवाहित जोड़े के शयन कक्ष में रखने से जीवनपर्यंत एक दूसरे के प्रति प्रेम बना रहता है।

स्त्री वशीकरण उपाय Frontier Theme

Click Here for Call, Msg and Whatsapp

call now sms now whatsapp now